Tik Tok Application Story In Hindi 2019


टिक-टोक सब की शुरवात हुई 2016 के सितम्बर के महीने से जब इसको दिउएन नाम से चाइना में पहली बार लोच किया गया इसे 200 दिनों के समय में बनाया गया था और इसके लांच होने से पहली ही साल में इस अप्प ने 100 मिलियन डाउनलोड का आकडा पार कर लिया था
 
इस अप्प को चाइना में बदल कर टिक-टोक रख दिया गया इंटरनेशनल लोच होने से पहले यह अप्प सबसे ज्यादा बार डाउनलोड होने वाली अप्प बन गयी थी इस अप्प जीतने आप लोग जुड़े उतने ही सेलेब्रिटी जुड़े यूथ को इन्फ्लुएंस करने के लिए 

फेस अप्प से काम करने लगे इस समय पर यही एप्लीकेशन ग्रो नहीं कर रही थी इसके अलावा कई देशो में दब्बड स्मेश और मुसिकल्ली अपने पहली ही खड़ी हो गयी थी 

जहा दब्बड स्मश दोर पिछड़ने लगा था मुसिकल्ली कई लोगो की पसंदीदा अप्प थी टिक-टोक की पैरेंट एप्लीकेशन ने कोम्पितिसन ख़तम करने के लिए एक रणनित अपनाई उन्होंने मुसिकाल्ली को हाईएर किया अब जीतने भी लोग मुसिकल्ली यूज़ कर रहे थे 

वो ऑटोमेटिकली टिक टोक पर आ गयी 2018 इस अप्प के और ज्यादा डाउनलोडस बड़ने लगे 2018 के पहले 6 महीनो में ही टिक-टोक 700 करोड़ 19 बार डाउनलोड किया गया 

और इस समय फेसबुक, यूटियूब और इन्स्ताग्राम जैसी बड़ी एप्लीकेशन को भी डाउनलोड के मामले में पिछाड दिया था इसकी पॉपुलैरिटी भारी मात्रा लाने के लिए इस कम्पनीज के ओनर्स ने कई अच्छी स्ट्रेटेजीज निभाई थी 

जैसे इन्होंने कई बड़े एक्टरो के साथ कैंपेन चलाये जिनसे इनकी भी पॉपुलैरिटी बड़ी और एप्लीकेशन के डाउनलोड यूजर भी इन्होंने अपनी न्यूज़फीड को इस तरह से बनाया था की कोई भी इंसान इनकी फीड को देखते हुए 

कभी बोर ना हो और लोग ज्यादा से ज्यादा समय इस एप्लीकेशन में बिताए दोस्तों एसा नहीं था ज़ैपस के ओनर ने इस अप्प को ऐसे ही लांच कर दिया और यह हिट हो गयी नहीं इनके पीछे इनके कई फ़ैलिएर्स थे कई दिनों में इन्होंने इसे सिख कर अप्प में बदलाव करे और इसको बेहतर बनाया जैसे की इस अप्प में पहले विडियो एडिट करने का फीचर नहीं था 

इसे बहुत से कम लोग विडियो अपलोड कर पाते थे एडिटिंग फीचर आते ही कोई भी आसानी से विडियो बनाकर इस पर डाल सकता था इसे उनके क्रिएटर्स की संख्या ज्यादा बड़ी और जो बात आपको नहीं पता होगी की इस अप्प के ओनर ने पहले एजुकेशन अप्प बनायीं थी 

जिसके जरिये कोई भी इंसान 3 से 5 मिनट के विडियो बना कर उसको शेयर कर सकता है इस आईडिया को कई अच्छी फंडिंग भी मिली पर इस अप्प से जितनी उम्मीद करी गयी थी यह अप्प इतनी सफल ना हो सकी 

और इसी के बाद उन्होंने एजुकेशनल फील्ड से हट कर एंटरटेनमेंट फील्ड बनायी इस अप्प के इस्तेमाल करने पर अक्सर सवाल उठाए गए की कई बच्चे इसके आदि हो गए है 

और इसके आने ने से उनका ध्यान पढाई में नहीं लगता इसा सिर्फ इस अप्प के लिए नहीं थी बल्कि पुब्ग के लिए भी थी इस मुद्दे पर कई लोगो के अलग-अलग विचार है पर असल बात यह की इन अप्प को बन कर दिया जाए तो इस अप्प के बाद कोई अप्प इसकी जगह ले ले लेगी और बच्चे उसके आदि हो जायेंगे

Post a Comment

0 Comments